ads

कोरोना में महंगाई की मार से बिगड़ा आम आदमी का बजट

नई दिल्ली । कोरोना संकट के बीच लोगों को महंगाई भी सता रही है। खाने-पीने के जरूरी सामानों की कीमत आसमान छू रही है। हालांकि कीमत पर लगाम लगाने के लिए सरकार लगातार प्रयास कर रही है, इसके बावजूद अभी तक कीमत में बहुत ज्यादा राहत नहीं दिख रही है। दाल, तेल और चायपत्ती जैसे जरूरी खाद्य पदार्थों की जिस तरह कीमत बढ़ी है, उससे निम्न और मध्यम वर्ग के लोगों के लिए घर चलाना मुश्किल हो गया है।

डिपार्टमेंट ऑफ कंज्यूमर अफेयर्स के मुताबिक, मसूर दाल की कीमत मई में 82 रुपए प्रति किलोग्राम है। पिछले साल मई में यह 70 रुपए किलोग्राम थी। चना दाल की कीमत मई में 78 रुपए प्रति किलोग्राम है, जबकि पिछले साल यह 68 रुपए प्रति किलोग्राम थी। तुअर दाल की कीमत 107 रुपए है, जो पिछले साल 92 रुपए किलोग्राम थी। उड़द दाल की कीमत 103 रुपए है, जो पिछले साल 94 रुपए थी। दालों की कीमत में सालाना आधार पर 10-20 फीसदी तक की तेजी है।

तेल के भाव में 50त्न तक तेजी-
ते ल की बात करें तो वनस्पति तेल की कीमत मई में 124 रुपए प्रति किलोग्राम है, जो पिछले साल मई में 82 रुपए थी। सोयाबीन तेल की कीमत अभी 142 रुपए है, जो पिछले साल 97 रुपए थी। मूंगफली तेल की कीमत 173 रुपए है, जो पिछले साल 143 रुपए थी। खाने के तेल के भाव में 50 फीसदी तक का उछाल आया है।

प्याज का भाव तीन गुना बढ़ा: प्याज का सबसे ज्यादा उत्पादन महाराष्ट्र में होता है। नासिक मंडी में प्याज के भाव में लगातार उछाल आ रहा है। मई के आखिरी सप्ताह में नासिक मंडी में प्याज 2000 रुपए क्विंटल के स्तर पर बिक रहा है। वहीं पिछले साल मई में यह 600-700 रुपए प्रति क्विंटल के स्तर पर बिक रहा था।

गड़बड़ाया रसोई का गणित-
10 से 20% तक की तेजी है दालों की कीमत में
50% तक का उछाल आया है खाने के तेल में
40% तक की तेजी आई है वेबरेज की कीमत में
8% के करीब तेजी आ चुकी है अब तक दूध में
300 प्रति किलो हो गई चाय की कीमत बढ़कर
2000 क्विंटल बिक रहा है प्याज



Source कोरोना में महंगाई की मार से बिगड़ा आम आदमी का बजट
https://ift.tt/3yRHqjm

Post a Comment

0 Comments