ads

कोरोना ही नहीं इन कारणों से भी शेयर बाजार में देखने को मिली बड़ी गिरावट

नई दिल्ली। आज शेयर बाजार के लिए सबसे खराब दिनों में से एक रहा। वित्त वर्ष में आज दूसरी सबसे बड़ी गिरावट देखने को मिली। 4 मई के बाद शेयर बाजार 1400 अंकों पर बंद हुआ। जबकि निफ्टी 432 अंकों लुढ़क गया। बाजार में गिरावट की सबसे बड़ी वजह यूके में कोरोना का नया स्ट्रेन है। वहीं इसके अलावा तीन और कारण हैं, जिसकी वजह से शेयर बाजार में बड़ी गिरावट देखने को मिली। आइए आपको भी बताते हैं वो तमाम कारण...

यह भी पढ़ेंः- कोरोना के नए तनाव से बाजार के डूबे 7 लाख करोड़ रुपए, सेंसेेक्स में साढ़े सात महीने की सबसे बड़ी गिरावट

कोविड के नए स्ट्रेन का डर
यूनाइटेड किंगडम में कोरोना वायरस के एक नए संस्करण की पहचान की गई है। इंग्लैंड के मुख्य चिकित्सा अधिकारी क्रिस व्हिट्टी ने 19 दिसंबर को कहा था कि कोरोना वायरस का नया संस्करण, जो कोविड-19 का कारण बनता है, तेजी से फैल सकता है। वैज्ञानिक अब इस पर काम करने में जुटे हुए हैं कि क्या इस नए कोरोना से मृत्यु दर ज्यादा रहती है और कितना गंभीर हो सकता है? मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन 21 दिसंबर यानी आज एक बैठक की अध्यक्षता करने वाले थे क्योंकि कई देशों ने ब्रिटेन से आने वाली उड़ानों को रद कर दिया था।

यह भी पढ़ेंः- अमरीकी इकोनाॅमी को मिले 900 बिलियन डाॅलर बूस्टर डोज से शेयर बाजार में गिरावट

भारी मुनाफावसूली
विश्लेषकों की मानें तो बाजार में मुनाफावसूली देखने को मिल रही है क्योंकि बाजार लगभग रिकॉर्ड ऊंचाई पर हैं। चूंकि कोरोना वायरस में तेजी देखने को मिल रहा है और सुधार के संकेत के बावजूद इकोनॉमी में अभी अनिश्चितता देखने को मिल रही है जिसकी वजह से जानकार नियमित अंतराल पर प्रोफिट बुकिंग की सलाह दे रहे हैं।

यह भी पढ़ेंः- अमरीकी पैकेज से सोने को लगे पंख, चांदी 70 हजार रुपए के पार

कमजोर वैश्विक संकेत
नए कोरोना वायरस तनाव की चिंताओं के बीच ब्रिटेन में शटडाउन की स्थिति आने की खबरों की वजह से अधिकांश एशियन शेयर बाजारों में 21 दिसंबर को गिरावट देखने को मिली। विदेशी मीडिया रिपोर्ट के अनुसार जापान के बाहर एशिया-प्रशांत शेयरों का एमएससीआई का सबसे बड़ा सूचकांक पिछले हफ्ते रिकॉर्ड पर पहुंचने के बाद 0.2 फीसदी तक डूबा। जबकि अप्रैल 1991 के बाद जापान का निक्केई शुरुआती तेजी के बाद 0.4 फीसदी तक नीचे चला गया।

यह भी पढ़ेंः- अमरीका बेरोजगारों को हर हफ्ते देगा 22 हजार रुपए, जानिए किन लोगों को मिलेंगे 44 हजार रुपए

विदेशी निवेशकों की बिकवाली
स्थानीय बिकवाली के अलावा आज विदेशी निवेशकों की ओर से जबरदस्त बिकवाली देखने को मिली। आंकड़ों के अनुसार आज विदेशी निवेशकों का इंडेक्स 1000 अंक नीचे चला गया। जबकि नवंबर और दिसंबर के शुरूआती आंकड़ों में देखने को मिला था कि एफआईआई की ओर से जबरदस्त रिकॉर्ड निवेश किया है। जिसकी वजह से शेयर बाजार में तेजी भी देखने को मिली थी। जानकारों की मानें तो आने वाले दिनों में एफआईआई की ओर से और ज्यादा बिकवाली देखने को मिल सकती है।



Source कोरोना ही नहीं इन कारणों से भी शेयर बाजार में देखने को मिली बड़ी गिरावट
https://ift.tt/2WyZ7Cd

Post a Comment

0 Comments